क्या आप सुबह जल्दी उठना चाहते हैं ? तो जानिए सुबह जल्दी उठने के 10 फ़ायदे

दोस्तों आज हम अधिकांश लोगों की एक आदत के बारे में चर्चा करेंगे। वह आदत है देर से उठने की आदत। लोग देर से उठकर अपनी दिन भर की दिनचर्या अपने ही हाथों बिगाड़ लेते हैं और हाँ! उनके बहाने भी बड़े दिलचस्प होते हैं। और वे देर से उठने के इन्हीं मज़ेदार बहानों के चलते ख़ुद को समझा लेते हैं।
 

ऐसा नहीं है कि लोगों को सुबह उठने के फ़ायदे और लेट उठने के नुकसान का पता नहीं होता। लेकिन सब जानते हुए भी ख़ुद से अनजान बने रहते हैं। होश तो तब आता है जब किसी बीमारी से घिर चुके होते हैं। आख़िर ऐसा क्यूँ ? ज़िम्मेदार कौन हैं?

हर दिन की भागदौड़, स्कूल कॉलेज की पढ़ाई, कोचिंग, हॉबी क्लासेस या फ़िर पारिवारिक और व्यावसायिक ज़िम्मेदारी, हरेक चीज़ को व्यवस्थित रखने की जद्दोजहद और हर भूमिका में खरे उतरने की ज़िद के बाद भला किसी और चीज़ के लिए फ़्री वक़्त ही कहाँ मिलता है।

दोस्तों आज हर किसी के ज़ेहन में यह सवाल होता है कि सुबह उठने की आदत कैसे डालें? क्यूंकि लगभग हर इंसान की दिनचर्या अस्तव्यस्त हो चुकी है। इसलिए हर कोई जानना चाहता है कि प्रातः काल उठने के क्या लाभ हैं? ताकि यह जानने के बाद कम से कम कुछ परिवर्तन तो ला सकें अपनी दिनचर्या में। 

हम कितनी ही कोशिशें कर लें मगर अलग-अलग वजहों से हमारे लिए सुबह जल्दी उठना लगभग नामुमकिन सा होता है।आजकल वैसे भी लोगों को देर रात तक मोबाईल चलाने, movies देखने, mobiles games खेलते रहने की आदत होती है।

कभी कोई मज़ेदार फ़िल्म या मज़ेदार पुस्तक या साहित्य पढ़ते पढ़ते वक़्त का पता ही नहीं चल पाता। और इसी वजह से अगली सुबह नींद खुल नहीं पाती। युवा पीढ़ी को मोबाईल की वजह से या किसी दोस्त के साथ चैटिंग करने की वजह से सोने में देर हो जाती है परिणाम स्वरूप सुबह उठने में उतनी ही देरी हो जाती है।

प्रातःकाल क्यों उठना चाहिए हमें

वैसे तो सुबह  जल्दी उठने की सलाह अमूमन सभी दिया करते हैं। लेकिन क्या आप यह भी जानते हैं कि अब तो विज्ञान भी  मानने लगा है कि जो भी शख़्स सुबह जल्दी उठता है उसको बीमारियां आना तो दूर, पास भी फटकने नहीं देती।

सुबह जल्दी उठने की और रात में जल्दी सोने की आदत यदि आपने बना ली तो समझो ये आदत आपको अनेक बीमारियों से कोसों दूर रखती है। यहाँ तक कि मानसिक अवसाद से भी छुटकारा पाया जा सकता है।

आपको हम बात दें कि Depression (अवसाद) एक ऐसी गंभीर बीमारी है। जो एक बार यदि हो जाये तो आपको पता भी नही चल पाता कि आप लगातार कितने अवसाद में धँसते चले जा रहे हैं। और यदि आप नींद पूरी नहीं ले पा रहे हैं या रतजगा कर रहे हैं और सुबह देरी से उठ रहे हैं तो आपको अवसाद बड़ी ही आसानी से घेर सकता है।

इसीलिए इन सभी समस्याओं से छुटकारा पाने का सबसे आसान तरीका है आप सुबह तड़के 4 से 5 बजे उठने का भरसक प्रयास करें। क्योंकि इस समय उठने का सबसे ज़्यादा फ़ायदा होता है।


सुबह जल्दी उठने के आसान और कारगर उपाय Easy & Effective Ways to get up early in the Morning in hindi


(1) उठने का एक समय निश्चित कर लें-

अक्सर लोग सुबह जल्दी उठने का प्लान बनाने के लिए रात से ही सोने का टाइम निश्चित करते हैं। यानी कि जितनी जल्दी सोयेंगे उतनी ही जल्दी उठेंगे। सोने में ज़रा भी देरी हुई तो सुबह उठने में आलस करने लगते हैं। इसीलिये यह ज़रूर कोशिश करनी चाहिए कि रात में ख़ूब जागने के बजाए जल्दी सोने की आदत बनाएं। ताकि आपकी नींद अच्छी हो सके और उठते समय आलस न आये।

हमारे Mind में सुबह जल्दी उठने वाली बात अच्छी तरह से सेट हो जानी चाहिए भले ही हम रात में 9 बजे, 10 बजे या 12 बजे सोयें। नींद पूरी होने के लिए हमारे दिमाग़ में रोज़ाना 8 घण्टे सोने का नियम तो होता है। मगर सुबह जल्दी उठने का कोई निश्चित नियम नहीं।

दोस्तों हम कभी ज़्यादा थके होते हैं तो कभी कम। यानी हमारी बॉडी को हर दिन एक ही जैसा आराम नहीं चाहिए। इसिलये रात को जब भी नींद आये तभी सोने जाएं अथवा अपनी बॉडी के हिसाब से बिस्तर पर जाएं जब लगे कि आपको नींद आ रही है। ऐसा करने से कुछ ही दिनों में आपकी बॉडी इस दिनचर्या की आदी हो जाएगी और अपने हिसाब से ही आपकी बॉडी रेस्ट ले लिया करेगी। 

इसीलिये रात को सिर्फ़ सोने का समय ही निश्चित न करें बल्कि सुबह उठने का भी एक फिक्स टाइम बना लें और उसी समय पर उठने की कोशिश करें। ऐसा लगातार करते रहने से आपकी ये आदत सहज ही बन जाएगी और आप सुबह जल्दी उठने लगेंगे।

(2) रात को सोते समय ही अपने दिमाग़ को नोटिफिकेटन दे दिया करें-

सोने के जस्ट पहले आपको अपने माइंड में एक important नोटिफ़िकेशन देना है कि अगली सुबह पक्का उठना है। कोई बहाना नहीं करना है। ऐसा करने से आपका माइंड सुबह आपको नींद खुलते ही notify कर देगा। शुरू-शुरू में भले ही आपको यह काम कठिन लग सकता है। लेकिन धीरे-धीरे सुबह जल्द जागने की आदत बन जाएगी।

(3) सुबह उठने के लिए पॉजिटिव व उत्साहित रहें-

सुबह अगर आपको जल्दी उठना ही है तो अपनी सोच को सबसे पहले पॉज़िटिव बनाकर सोयें। जैसे कि- खुद को फिट रखने के लिए, जल्दी स्कूल-कॉलेज जाने के लिए, जॉब पर जल्दी जाने के लिए आदि सभी के बारे में सोचकर सोयें।

(4) सुबह उठने के बेहतर Advantages को याद करके सोयें-

दोस्तों अगर आपको जल्दी उठना है तो रात को सोने से पहले उसके फ़ायदों के बारे में सोचकर सोना होगा। आप जितना ज्यादा सोचेंगे, पढ़ेंगे और सुनेंगे तो आपको उतना ही ज़्यादा आपका दिमाग़ व मन इस प्लान में आपका साथ देगा। आपका मन जब तक सुबह उठने के लिए तैयार नहीं होगा तब तक आपको सुबह उठने का आनंद नहीं मिल पायेगा।
 
सुबह जल्दी उठने से हम स्वस्थ रहते हैं। हमारे पास सारा दिन होता है जिसमें हम अपने सारे पेंडिंग काम कर सकते हैं। बचे हुए एक्स्ट्रा समय को हम अपनी फ़ैमिली, दोस्तों, या ख़ुद के साथ Spend कर सकते हैं। इसीलिये इस तरह के लाजवाब फ़ायदों को सोचकर सोयेंगे तो ज़रूर मदद मिलेगी।

(5) अलार्म का उपयोग सुबह उठने के लिए करें-

सुबह उठने की आदत बनाने की लिए शुरुआत में आपको अलार्म का उपयोग करना पड़ेगा। क्योंकि शुरू-शुरू में Natural तरीके से जल्दी उठ पाना ज़रा मुश्किल होता है। आपको जितने बजे भी उठना है अलार्म में वो टाइम फ़िक्स कर लें।

कुछ दिनों बाद धीरे-धीरे आपकी आदत बन जाएगी। फ़िर शायद आपको अलार्म की आवश्यकता भी ना पड़े। बाद में सुबह के उसी समय आपकी नींद Automatically खुल जाए करेगी। 

और हां! एक विशेष बात यह कि अगर आपको अलार्म बजते ही उसे बंद करके सोने की आदत है तो कृपया अलार्म को अपने बिस्तर से कुछ दूरी पर ही रखें। ऐसी परिस्थिति में अलार्म बंद करने मजबूरी में आपको उठना ही पड़ेगा। जो कि आपके लिए फ़ायदेमंद हो सकता है।

(6) रूटीन को रेगुलर रखें, ब्रेक देने की कोशिश न करें-

अक्सर ऐसा होता है कि जब हम 2-4 दिनों तक रेगुलर रूटीन बना चुके होते हैं उसके बाद अचानक सारी excitement ख़त्म हो जाती है। आलस करते हुए किसी दिन हमने रूटीन से ब्रेक क्या किया! समझो हमारी सारी प्लानिंग पर पानी फिर जाता है। 

इसलिए ध्यान रखें कि अच्छा रुटीन बन जाने के बाद उन कमज़ोरियों को हाबी न होने दें जिनकी वजह से आपका प्लान चौपट हो जाये और आप फ़िर से वही आलस भारी रूटीन में पहुंच जाएं।

तो दोस्तों! ये थे सुबह जल्दी उठने के लिए कारगर उपाय। जिनके प्रयोग से आप अपनी सुबह बेहतरीन कर सकते हैं। कई सालों से ना उठ पाने की समस्या से निजात पा सकते हैं।

हम आपको बता देना चाहते हैं कि जब आप कुछ दिनों तक यूँ ही बेहतरीन रूटीन के साथ अपनी सुबह की शुरुआत करते रहेंगे तो निश्चित रूप से आपको आपके सवाल "सुबह उठने के क्या फ़ायदे हैं? का जवाब मिल चुका होगा। 


सुबह जल्दी उठने के फ़ायदे (Benefits of getting up early morning in hindi)



दोस्तो आपने अगर सचमुच सुबह उठने की आदत बना ली है तो आप देखेंगे कि मात्र सुबह जल्दी उठ जाने से आपके बहुत सारे काम अपने आप होते चले जायेंगे। फ़ालतू की हड़बड़ी से मुक्ति मिलेगी और न जाने ऐसे कितने ही फ़ायदे आपको होने लगेंगे बस सुबह उठने की देर है। तो चलिए देखते हैं Benefits of wake up early in the morning सुबह उठ जाने मात्र से आपको क्या क्या फ़ायदे हो सकते हैं-


(1) सुबह जल्दी उठने का सबसे महत्वपूर्ण फ़ायदा यह है कि सुबह की हवा में आक्सीजन  की भरपूर मात्रा होती है। जिससे हमारे फेफड़े स्वस्थ रहते हैं। और आप जानते हैं कि स्वस्थ फेफड़े अनेक बीमारियों से बचाते हैं।

(2) सुबह जल्दी उठ जाने से एक्सरसाइज़ करने का वक़्त बड़ी ही आसानी से मिल जाता है जो कई दिनों से आपको नहीं। मिल पा रहा था। एक्सरसाइज़ करने से ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है जिससे दिल दुरुस्त और शरीर तंदुरुस्त रहता है। दिल और शरीर से जुड़ी कई बीमारियां आपसे दूर भागने लगती हैं।

(3) सुबह जल्दी उठने से ध्यान के लिए भी वक़्त मिल जाएगा। जिससे दिल और दिमाग़ को शांत रखने का इससे बेहतर मौक़ा पूरे दिन में नहीं मिलेगा। और आप भली भांति जानते हैं कि दिमाग़ शांत रहेगा तो काम करने में एकाग्रता भी बनी रहेगी।

(4) सुबह जल्दी उठ जाने मात्र से ही मानसिक शांति, ठंडी हवा, क्षितिज से आसमान की तरफ आता सूर्य, उड़ती चिड़ियों का कलरव करता झुंड आदि अद्भुत सौंदर्य देख और महसूस कर पाने का मौक़ा मिल जाता है।

(5) सुबह उठकर योग और प्राणायाम करने के अनेक फ़ायदे हैं। जैसे इससे मानसिक बीमारियाँ भी दूर होती हैं। मन प्रसन्न रहता है जिस कारण तनाव पूर्ण दिनचर्या से छुटकारा मिल जाता है।

(6) सुबह जल्दी उठ जाने से उत्पादकता (Productivity) और कार्यक्षमता दोनों में ही वृद्धि होती है। चाहे आम आदमी हों या विद्यार्थी ही क्यूँ ना हों। बल्कि 2008 में टेक्सास यूनिवर्सिटी ने अपने एक अध्ययन में यह पुष्टि की है कि सुबह जल्दी उठने वाले विद्यार्थियों को देर से उठने वाले विद्यार्थियों की तुलना में ज़्यादा बेहतर अंक मिलते हैं।

(7) सुबह जल्दी उठ पाने का एक फ़ायदा यह भी है कि हम सुबह का नाश्ता कर लेते हैं जिसे हम लेट उठने की वजह से हड़बड़ी में अक्सर छोड़ दिया करते थे।

(8) जल्दी उठने का एक और बेहतरीन फ़ायदा यह है कि हम दिन भर के सारे काम आराम से करते हैं। हमारेे पास बहुत सारा टाइम होता है। जिससे तनाव और किसी प्रकार का दबाव महसूस नहीं होता।

(9) जल्दी उठने से मूड अच्छा रहता है। हम हर चीज़ वक़्त पर और सहूलियत से कर पाते हैं। इस वजह से अवसाद, अनिद्रा और निराशा जैसी समस्याएँ हमारे आसपास भी नहीं फटकती हैं और हम पूरे दिन भर ऊर्जा से भरपूर बने रहते हैं।

(10) एक उम्र के बाद हड्डियां अपनी मज़बूती खोने लगती हैं। ऐसे में सुबह तड़के उठकर हल्की फुल्की कसरत करके, सही खानपान और सही रूटीन से इन्हें मज़बूती प्रदान की जा सकती है।

तो दोस्तों! देखा आपने!! सुबह उठने से इतने सारे फ़ायदे!! ज़ाहिर है हम जल्दी उठेंगे तो हमारा सारा काम वक़्त पर हो जाया करेगा। व्यायाम, योग और ध्यान के साथ-साथ सही वक़्त पर नाश्ते का लुत्फ़ भी उठा सकते हैं और अच्छे स्वास्थ्य में भी नियमियता बनाये रख सकते हैं।

तो फ़िर क्यूँ ना आज से ही सुबह जल्दी उठने का संकल्प ले लिया जाए। और अपनी दिनचर्या में एक जबरदस्त बदलाव लाने का सकारात्मक प्रयास किया जाए। रोज़ के नए-नए बहाने बनाने के बजाय अपने साथ-साथ दूसरों के लिए भी उदाहरण पेश किए जाएं।

दोस्तों!! उम्मीद है हमारा यह लेख "सुबह जल्दी जागने के उपाय इन हिंदी" आपको जरूर अच्छा लगा होगा। यदि ऐसा है तो आप इसे अपने लोगों के साथ निश्चित ही शेयर कर सकते हैं ताकि वे भी जल्दी उठने का संकल्प लेकर अपनी दिनचर्या में परिवर्तन लाने का प्रयास कर सकें।

Reactions

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ