स्टार्टअप रेवेन्यू बढ़ाना हो तो, क्या ख़ास रणनीति अपनाएं | कंपनी की आय में बढ़ोत्तरी कैसे करें?

दोस्तों आज के समय में भारत में बहुत सी ऐसी कंपनियां हैं, जो नंबर वन पर हैं, लेकिन बहुत सी ऐसी भी कंपनियां हैं, जो आज तक संघर्ष कर रही हैं, क्योंकि आज के समय में बाज़ार में इतनी अधिक प्रतियोगिता बढ़ गई है, कि कोई भी इसके साथ संतुलन नहीं बना पा रहा है।



ऐसे समय में यदि आप किसी कंपनी या व्यापार के मालिक हैं तो आपके समक्ष बहुत ही बड़ी चुनौती होती है कि कंपनी को सलीक़े के साथ चलाते हुए कंपनी की रेवेन्यू (आय) को बढ़ाते चलें। 

दोस्तों अपने स्टार्टअप को क़ामयाब करने के लिए आपको ऐसी अनेक चुनौतियों का सामना करना होता है। साथ ही जी भर के कड़ी मेहनत भी करनी पड़ती है। ख़ुद को बदलने के साथ-साथ बिज़नेस को भी हर परिस्थिति के हिसाब से ढालना होता है तभी आपको यथोचित सफ़लता हासिल होती है और आपकी कंपनी का रेवेन्यू बढ़ता चला जाता है।

बिज़नेस शुरू करते समय आपको यह सुनिश्चित करना होता है कि आपके स्टार्टअप के लगभग हर पहलू(एरिया) पर पूरा ध्यान दिया जाए ताकि छोटी-छोटी चीज़ें आपके ख़िलाफ़ ना जा सकें। आपको बिज़नेस मालिक होने के नाते अपनी कंपनी को मैनेज करते समय अनेक ज़िम्मेदारियाँ एक साथ निभानी होती हैं। 

अतः आपको विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है जैसे कि आप अपने रोज़ाना के काम और तौर तरीक़ों को बेहतर करने और रेवेन्यू बढ़ाने के लिए सही तरीकों का इस्तेमाल करें। आइये हम जानने की कोशिश करते हैं कि किन तरीकों के इस्तेमाल से आप अपनी कंपनी का रेवेन्यू बढ़ा सकते हैं-

1. एक अच्छी सी वेबसाईट बनाएँ

दोस्तों! आज के प्रतिस्पर्धी ज़माने में, सिर्फ़ मार्केट में आपकी मौजूदगी ही काफी नहीं है। हम आपको बता दें कि आज के समय में लोग ऑनलाइन मार्केटिंग की तरफ़ ज़्यादा आकर्षित हो रहे हैं। किसी भी प्रोडक्ट या कंपनी की जानकारी झट से इंटरनेट पर देखना ज़्यादा बेहतर समझते हैं। इसीलिए आपके पास यूज़र फ्रेंडली वेबसाईट होना बहुत ज़रूरी है। साथ ही वेबसाईट की डिज़ाइनिंग आधुनिक और फंक्शनल होना चाहिए ताकि आपकी वेबसाईट कस्टमर फ्रेंडली रहे और उन्हें आसानी से समझ भी आ सके। इस तरह आपकी कंपनी की रेवेन्यू में लगभग 20% से 30% तक का इज़ाफ़ा होना लाज़मी हो जाता है। 


2. प्रतिस्पर्धियों से ज़रूर सीखें

अपनी कंपनी की रेवेन्यू (आय) में बढ़ोत्तरी के लिए सबसे पहले आपको यह जानना ज़्यादा ज़रूरी है कि आपके प्रतिस्पर्धी क्या कर रहे है? वे मार्केट में किस तरह अपना व्यापार कर रहे हैं? इसी तरह आप भी अपने व्यवसाय में अपने तरीकों को बेहतर कर सकते हैं। हो सकता है आपकी रणनीति, तौर-तरीक़े आज के मार्केट के हिसाब से सही नहीं लग रहे हों। तब आप निश्चय ही अपने प्रतिस्पर्धियों से कुछ नया सीखकर अपनी रणनीतियों में बदलाव लाकर अपनी कंपनी की आय बढ़ा सकते हैं।

3. क्रिएटिविटी की क़ीमत ज़रूर करें

मार्केट में अपने प्रतिस्पर्धियों से सदैव ही कुछ न कुछ सीखना बेहतर होता है। परंतु आप यदि अपनी कंपनी को मार्केट में और कस्टमर्स की नज़रों में सबसे आगे रखना चाहते हैं तो आपको ख़ास मौकों पर अपने प्रतिस्पर्धियों से कुछ अलग करना होगा। इसके लिए ज़रूरी है आप नये आइडियाज़ को अपनाने के लिए हमेशा तैयार रहें। याद रखें कि क्रिएटिविटी ही आपको दूसरों से ख़ास बनाती है। 

4. अच्छी सर्विस देने का प्रयास करें

कस्टमर्स सर्विस एक ऐसी कला है जिससे आप अपने बिज़नेस को अनंत ऊँचाइयों पर ले जा सकते हैं अथवा बिज़नेस को असफ़ल भी कर सकते हैं। यदि आप कस्टमर्स की बातों को सुनकर, उनकी ज़रूरतों को ध्यान में रखते हैं तो यह निश्चित हो जाता है कि कस्टमर्स आपकी कंपनी से लगातार जुड़े रहेंगे। उन्हें अच्छी से अच्छी सर्विस देने लिए प्रतिबद्धता ही आपके लिए सुनहरा भविष्य लेकर आएगी। फलस्वरूप आपकी कंपनी की आय लगातार बढ़ेगी।


5. कस्टमर्स को समझने का प्रयास करें

यह बात आपको गाँठ बांधकर रख लेनी चाहिए कि कस्टमर्स ही आपकी कंपनी का मूल आधार हैं। यदि कंपनी को आगे लेकर जाना है और उसकी आय में लगातार बढ़ोत्तरी करना है तो कस्टमर्स को समझकर चलना ही होगा। कस्टमर्स की ज़रूरतों एवं इच्छाओं को पूरा करना आपका प्रथम कर्तव्य है क्योंकि यही लोग आपकी कंपनी को जीवन देते हैं। आप चाहें तो बेहतर तरीकों से डील करने के लिए कंज़्यूमर फ़ीडबैक का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

6. सोशल मीडिया पर बेहतर पकड़ बनाएं

आज का दौर सोशल मीडिया का है। इसीलिए अपने व्यापार को सफलता दिलाने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्मस पर जितना हो सके पकड़ बनानी ही होगी। इन्हीं माध्यमों से प्रोमोट करने का प्रयास करना होगा ताकि अधिक से अधिक कस्टमर्स तक आपकी पहुँच बढ़ सके। सोशल मीडिया पर उपलब्ध प्लेटफ़ॉर्मस से आपको यह भी बड़ी आसानी से जानने मिल सकता है कि कस्टमर्स की सोच आपकी कंपनी के बारे में क्या है? इसे आगे और अच्छा बनाने के लिए आपको क्या करना होगा आदि आदि।

7. अपने नेटवर्क्स बढ़ाने का प्रयत्न करें

किसी भी व्यवसाय अथवा कंपनी की आय बढ़ाना हो तो सबसे ज़्यादा ज़रूरी होता है प्रोफ़ेशनल रिश्तों को बेहतर करना। प्रोफ़ेशनल रिश्तों को बढ़ाने के लिए नेटवर्किंग एक अच्छा माध्यम है। इससे आपको पता चल जाता है कि मार्केट में अन्य लोग किस तरह कार्य कर रहे हैं और किस तरह मैनेजमेंट कर रहे हैं। आप चाहें तो पोटेंशियल इन्वेस्टर्स से भी जुड़ सकते हैं ताकि आपकी कंपनी को समय-समय पर फंड्स प्राप्त हो सके जिससे कंपनी की रेवेन्यू (आय) बढ़ सके।



8. माहौल को हमेशा सकारात्मक रखें

आजकल प्रतियोगिता इतनी ज़्यादा होती है कि कंपनी का ज़रा सा नुक़सान भी बर्दाश्त करना नामुमकिन से हो जाता है। ऐसे वक़्त में अपनी कंपनी में कर्मचारियों, सहयोगियों के साथ अपना बर्ताव सही रखें। उनका आत्मबल, आत्मविश्वास बनाये रखें। क्रिएटिविटी पर ध्यान दें। उनका हौसला बढ़ाते रहें। ऐसा करने से आने वाले समय में यही लोग आपकी कंपनी को आगे लेकर जा सकते हैं और नई ऊँचाइयों को छूने में आपकी मदद कर सकते हैं।


दोस्तों उपरोक्त तरीकों से आप निश्चित रूप से अपनी कंपनी अथवा व्यवसाय को नये आयाम दे सकते हैं। जिससे आपकी कंपनी का स्टेटस और आय भी बढ़ेगी। मार्केट में आपका स्थान पहले से ज़्यादा बेहतर होगा जिससे आपका और आपकी कंपनी के समस्त कर्मचारियों का आत्मविश्वास भी चरम पर होगा। आशा है आपको हमारा यह आर्टिकल "स्टार्टअप रेवेन्यू बढ़ाना हो तो, क्या ख़ास रणनीति अपनाएं | कंपनी की आय में बढ़ोत्तरी कैसे करें" ज़रूर पसंद आया होगा।

अन्य आर्टिकल भी पढ़ें 👇

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ