सर्दी-ज़ुकाम ख़ुद ही देता है आपको कोरोना से लड़ने की ताक़त | Winter cold gives strength to fight against corona in hindi

दोस्तों! बदलते मौसम में अगर आप भी सर्दी-ज़ुकाम से परेशान हो रहे हैं। तो फ़िक्र ना करें। बल्कि आप ऐसा मान सकते हैं कि इससे कोविड-19 के विरुद्ध आपके शरीर को इम्युनिटी (immunity) मिल रही है। 


क्यों? हो गए न आप भी हैरान!! यह जानकर कि 'सर्दी ज़ुकाम बढ़ाता है कोरोना से लड़ने की क्षमता।' जी हाँ! हम आपको यही अद्भुत जानकारी देना चाहते हैं। जो कि आपको चौंकाने वाली है। यही कि 'कोविड-19 से लड़ने की क्षमता बढ़ती है साधारण सर्दी-जुकाम से।चलिए! वक्त बर्बाद न करते हुए हम मुद्दे पर आते हैं।

दरअसल लखनऊ स्थित संजय गांधी पीजीआई के पूर्व व सीएमई वेल्लोर के इम्यूनोलॉजिस्ट immunologist डॉ. देबाशीष डांडा का मानना है कि हम भारतीयों के लिए सर्दी-ज़ुकाम होना मामूली सी बात होती है।

डॉ. डांडा इसे सीज़नल कोरोना मानते हैं। वह बताते हैं कि सर्दी-ज़ुकाम होने पर शरीर में इससे लड़ने के लिए एंटीबॉडी और टी सेल्स बनते हैं। वैसे तो एंटीबॉडी कुछ समय बाद ख़त्म हो जाती है। लेकिन टी सेल्स शरीर में मौजूद रहते हैं। यही टी सेल्स हमें कोविड-19 जैसे इन्फेक्शन से बचाने के लिए भी immunity प्रदान करते हैं।

कोविड-19 के लिए बनाई जा रही वैक्सीन भी टी सेल्स पर आधारित है। यही वजह है कि यदि किसी के शरीर में एंटीबॉडी ना भी मिले तो भी चिंता की बात नहीं, क्योंकि संक्रमण के बाद उनमें टी सेल्स मौजूद रहते हैं जो कि हमारे शरीर को immunity देने का काम करते हैं।

हम आपको बता दें कि भारत में कोरोना संक्रमण के मामले पश्चिमी देशों की तरह गंभीर नहीं हैं। देखा जाए तो देश में मृत्युदर भी पश्चिमी देशों के मुकाबले बहुत कम है। इसकी प्रमुख वजहों में से एक है, भारतीयों में समय-समय पर होने वाला सीज़नल कोरोना। जिस कारण भारतीयों के शरीर की immunity प्रतिरोधकता में वृद्धि होती रहती है।


कोरोना के बेअसर होने का कारण

डॉ. डांडा बताते हैं कि भारतीयों में Cross Protection Immunity के कारण भी कोविड-19 ज़्यादा मारक नहीं हो रहा है। क्रॉस प्रोटेक्शन यानि अलग-अलग पैथॉजेन्स से होने वाले infection से लड़ने के लिए हमारा शरीर एंटीबॉडी तैयार करता रहता है। यह एंटीबॉडी भी कोरोना संक्रमण के ख़िलाफ़ protection दे रही है। हाइजीन हाइपोथेसिस पर डॉ. डांडा कहते हैं कि हम बहुत ज़्यादा साफ़-सुथरे वातावरण में नहीं रहते, जिसके चलते बीमारी पैदा करने वाले तमाम पैथॉजेन्स से हमारा सामना होता रहता है। यह भी immunity रोगप्रतिरोधक क्षमता मज़बूत करने में मददग़ार साबित हो रहे हैं।


बीसीजी टीका भी दे रहा साथ

शोधकर्ता भी अब इस बात को मान चुके हैं कि बीसीजी टीकाकरण कोविड-19 के विरुद्ध प्रतिरोधक क्षमता immunity देने में भारतीयों का साथ दे रहा है। इसे मुख्यतः टीबी की रोकथाम के लिए दिया जाता है। डॉ. बताते हैं कि ईरान के एक शोधपत्र में यह बात सामने आयी है कि जिन कोरोना मरीज़ों को 1982-83 से वहाँ शुरू हुए बीसीजी वेक्सीनेशन कार्यक्रम के तहत टीका लगाया गया है, उनमें कोविड-19 संक्रमण से मृत्यु दर काफी कम है। जबकि जिन्हें बीसीजी नहीं लगा है, उनमें मृत्यदर अधिक पायी जाती है।

ऐसा मानना है कि आमतौर पर 99 प्रतिशत मामलों में होने वाला सर्दी-ज़ुकाम सीज़नल कोरोना होता है, जो कि अपने आप ही ठीक हो जाता है। उन्हें अस्पताल के शरण में जाने की आवश्यकता नहीं होती।

दोस्तों हमने आपको यह विशेष जानकारी इसीलिये नहीं दी है कि आप पूरी तरह लापरवाह हो जाएं। बस हमने आपके अंदर छिपे इस खास immunity power से परिचित कराने का प्रयास किया है। ताकि आप कोरोना से डरकर नहीं बल्कि डटकर मुकाबला कर सकें। इसके लिए आपका सेहतमंद बने रहना ज़रूरी है।

बस सावधानी बनाये रखिये। मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग  की आदत बनाए रखिये। क्योंकि इस तरह की सावधानी तो हमें साधारण सर्दी-ज़ुकाम के समय भी बरतना चाहिए। ताकि हमारे आसपास के लोग सिर्फ़ हमारी वजह से सर्दी-जुकाम से बेवजह संक्रमित न हों।

अपनी दिनचर्या अच्छी बनाने का प्रयास करते रहिये। स्वास्थ्य और फ़िटनेस के प्रति जागरूक रहिये। इसके लिए आप हमारे लेख "स्वस्थ जीवन जीने के कुछ लाजवाब टिप्स" पढ़ सकते हैं।

उम्मीद है आप इस लेख "सर्दी-ज़ुकाम ख़ुद देता है आपको, कोरोना से लड़ने की ताकत।" को अपने दोस्तों से ज़रूर share करना चाहेंगे। स्वस्थ रहिये, सुरक्षित रहिये। मिलते है किसी और दिलचस्प आर्टिकल के साथ।
Reactions

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ