छोटे बच्चों के online class के लिए रखें इन बातों का विशेष ध्यान | बच्चों को ऑनलाइन पढ़ने के लिए कैसे प्रेरित करें?

दोस्तों आजकल ऑनलाइन क्लासेस का दौर चल रहा है। और ऐसे में बच्चों पर ध्यान देना बहुत ज़रूरी हो जाता है कि कहीं आपकी लापरवाही से online classes से पढ़ाई कर रहे आपके बच्चे पिछड़ न जाएं।


ऑनलाइन क्लास के दौरान पढ़ाई के लिए एक अच्छा माहौल बनाने की ज़िम्मेदारी केवल शिक्षक की ही नहीं होती। बल्कि बच्चों के माता-पिता की भी होती है। अगर आपके छोटे बच्चे घर में ऑनलाइन क्लास से पढ़ाई कर रहे हैं। तो आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बताने वाले हैं, जिन्हें अपनाकर आप अपने बच्चों के लिए घर में सीखने का माहौल तैयार कर सकते हैं।

वैसे भी कोरोना काल में सबसे ज़्यादा बुरा प्रभाव बच्चों की शिक्षा पर पड़ा है। सभी स्कूल और कॉलेजों को पूरी तरह से बंद कर दिया गया। जिसके कारण छोटे बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई का दौर आवश्यक रूप से शुरू हो गया। हालांकि कुछ एहतियातों और अभिभावकों की सहमति से कॉलेज, स्कूलों की बड़ी कक्षाऐं कक्षाएं शुरू कर दी गयीं। लेकिन छोटे बच्चों की कक्षाओं के बारे में अभी स्थिति नाज़ुक ही है। ये समझ लीजिए कि उनकी अधिकांश पढ़ाई ऑनलाइन क्लासेस से ही होना ज़्यादा लाज़मी माना जा रहा है।
हालांकि, एक साधारण कक्षा में पढ़ाई का वातावरण बनाने के लिए शिक्षक अपनी पूरी ताक़त झोंक देता है। लेकिन बात यदि बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई की हो तो शिक्षक पूर्ण रूप से छात्रों पर नियंत्रण नहीं कर सकता।


छोटे बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाई कराते समय रखें इन बातों का ख़ास ध्यान


समय और आपकी जिज्ञासा का ख़याल रखते हुए, आइये जानते हैं कि छोटे बच्चों के online class के समय क्या क्या ध्यान रखना चाहिए?


1. शारीरिक व मानसिक रूप से तैयार करें-


ऑनलाइन कक्षा शुरू होने से पहले बच्चों को अच्छी तरह तैयार कर लें। हमारा मतलब है कि जिस तरह बच्चा स्कूल जाने के लिए पहले से ही शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से तैयार होता था। ठीक इसी तरह उसे ऑनलाइन कक्षा के कम से कम आधा घंटा पहले तैयार कर लें। ताकि जब भी आपका बच्चा ऑनलाइन क्लास में बैठे तो शिक्षक द्वारा बताई गई बातों, विषयवस्तु को अच्छी तरह आत्मसात कर पाए।


2. ख़ाली पेट ऑनलाइन क्लास में न बैठने दें-


ऑनलाइन कक्षा यदि सुबह की हो। तब सुबह-सुबह बिना मुँह धोए, बिना नष्ट किये बैठ जाने से बच्चे उतनी ऊर्जा के साथ नहीं बैठ पाते। परिणामस्वरूप उनकी पढ़ाई पर साफ़ असर दिखाई देने लगता है। इसलिये बच्चों को सुबह सही टाइम पर साफ-सफ़ाई के साथ दूध-नाश्ता या जो उसके लिए उपयुक्त हो। उसे खिला-पिलाकर तृप्त कर दें। फिर ऑनलाइन कक्षा में बैठने दें।


3. पढ़ाई के लिए कोई ख़ास जगह चुनें-


यदि आपका बच्चा ऑनलाइन क्लास से पढ़ाई कर रहा है। तो उसकी पढ़ाई के लिए घर में एक बढ़िया सा स्टडी स्पॉट बनाएं। अपने बच्चे की ऑनलाइन कक्षा के लिए आप एक ऐसा स्थान निर्धारित कर सकते हैं, जहाँ आपके बच्चे का पढ़ाई से बार-बार ध्यान ना भटके। घर का लिविंग रूम या ऐसी जगह जहाँ आप ज़ूम मीटिंग करते हैं, बच्चों की पढ़ाई के लिए सबसे ख़राब जगह होगी। ऐसे स्थानों पर ऑनलाइन क्लास के लिए बच्चे को कतई न बिठायें।

इसके लिए आप अपने बच्चों की पढ़ाई के लिए ऐसी जगह चुन सकते हैं, जहाँ पर सूरज की सीधी रोशनी मिल रही हो। यदि आपके पास ऐसी जगह नहीं है, तो आप अच्छी क्वालिटी का बल्ब भी इस्तेमाल कर सकते हैं। जो कि आपके बच्चे की आंखों पर ज़्यादा विपरीत प्रभाव न डाल सके।


4. आवश्यक सामग्री पहले से ही तैयार रखें-


एक बात विशेष रूप से ध्यान रखें कि बच्चे को उसकी ऑनलाइन क्लास के टाइम टेबल के हिसाब से उस समय की क्लास के हिसाब से विषय की कॉपी, किताबें, पेन, हेडफ़ोन, चार्जर, पाइन का पानी इत्यादि सामग्री पहले से ही टेबल पर रख दें। ताकि जब ऑनलाइन क्लास चलती रहे तब वह किसी अध्ययन सामग्री के लिए चलती कक्षा से न उठे। इससे पढ़ाई में विघ्न पड़ता है। ऐसे में आपके बच्चे कुछ ज़रूरी बातें सुनने से वंचित रह सकते हैं।


5. नोट करने के लिए पेन कॉपी अवश्य दें-


कक्षा ऑनलाइन हो अथवा ऑफलाइन। बच्चे के हाथ में कम से कम एक पेंसिल व कॉपी ज़रूर दें। ताकि वह शिक्षक द्वारा बताए जा रहे कुछ विशिष्ट बिंदुओं को नोट कर सके। तथा ज़रूरत पड़ने पर वह अध्यापक से पूछ सके।


6. बच्चे के साथ आसपास मौजूद रहे-


यदि आपका बच्चा छोटी क्लास यानि कि पांचवीं कक्षा से छोटी कक्षा में है तो ऐसी स्थिति में कोशिश करें कि ऑनलाइन शिक्षण के दौरान आप भी उसके आसपास मौजूद रहें। कई बार ऐसा होता है कि उस समय शिक्षक द्वारा बतायी गयी कई बातें उसे याद नहीं रहतीं। इसलिए आप अगर साथ होंगे तो बाद में उसे अच्छी तरह से समझा सकते हैं।


7. बच्चे का माइंड फ्रेश ज़रूर कराएं-


अक़्सर देखा जाता है कि ज़्यादातर देर तक एक ही जगह नहीं टिक पाते। इसलिए उन्हें Online class के बीच में दिए जाने वाले गेप में उसे थोड़ा टहलने के लिए कहिए। वहीं आसपास टहलना सही रहेगा। और हाँ! उसे टीवी वगैरह न देखने दें। क्योंकि tv देखने से आपके बच्चे की एकाग्रता भंग हो सकती है। जो कि फ़िर से Online Class में बैठने के बाद एकाग्र होने में मुश्किल हो सकती है।

वैसे तो पढ़ाई के अलावा बच्चों का खेलना-कूदना भी उतना ही महत्वपूर्ण है। क्योंकि खेलने-कूदने से उनका मानसिक और शारिरिक विकास होता है। साथ ही उनकी रचनात्मक क्षमता भी बढ़ती है। इसलिए आप अपने बच्चों को म्यूज़िक क्लास, डांस क्लास या फिर स्पोर्ट्स एक्टिविटी के लिए भी भेजना शुरू कर सकते हैं। इस करने से आपका बच्चा ऑनलाइन क्लास में बैठने में आनाकानी नहीं करेगा।


8. बच्चे को दिया गया होमवर्क अवश्य कराएं-


ऑनलाइन क्लास हो जाने के बाद बच्चे को उस दिन पढ़ाये गए पाठ या सिलेबस को दोहराने के लिए अवश्य प्रेरित करें। रोज़ाना उसे लक्ष्य पूरा करना सिखाएं। नोट बुक में जो भी home work दिया हो, उसे शाम तक पूर्ण ज़रूर करवाएं। ताकि आपका बच्चा अगले दिन अपने कोर्स के साथ अपडेट रह सके।


9. समय-समय पर बच्चों को गिफ़्ट दें-


क्लास में अच्छा परफार्मेंस देने पर उसे समय समय पर कुछ छोटे मोटे उपहार अवश्य दें। जैसे कि पेंसिल, कोई ख़ास स्टिकर, पेंसिल बॉक्स या कोई भी छोटा मोटा गिफ़्ट। इससे आपका बच्चा नई उमंग के साथ कक्षा में अच्छा करने के लिए लालायित रहेगा।


10. तकनीक का सही इस्तेमाल करना सिखाएं-


बच्चों की ऑनलाइन क्लास के समय कम्प्यूटर, लेपटॉप या मोबाइल से संबंधित बातों का ध्यान रखना बेहद ज़रूरी होता है। ऑनलाइन कक्षा के दौरान अपने बच्चे को तकनीक के इस्तेमाल की सही समझ दें। ताकि वह ऑनलाइन पढ़ाई के समय आसानी से कम्प्यूटर, टेबलेट या मोबाइल को सही तरह ऑपरेट कर सके। साथ ही अपने बच्चे को शिष्टाचार भी सिखाएं। ताकि वह ऑनलाइन क्लास के समय क्लास में अच्छा माहौल बनाये रखने में अपने सहपाठियों व शिक्षकों को मदद कर सके।

उम्मीद है आपको छोटी कक्षाओं के बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई के संबंध में यह जानकारी अवश्य मिल चुकी होगी कि "किन बातों का ध्यान रखें जब बच्चा ऑनलाइन क्लास से पढ़ाई कर रहा हो?" साथ ही एक और उम्मीद कि आपको यह लेख अवश्य पसंद आया होगा। आप अपनी राय हमसे अवश्य साझा कर सकते हैं।

कुछ अन्य आर्टिकल्स👇

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ