जीवन में योग के फ़ायदे | अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 | Yog ke fayde in hindi

योगा से ही होगा | योग प्राणायाम के फ़ायदे | Yoga day 2021



दोस्तों आज हम जिस topic पर बात करने जा रहे हैं। वह सबसे महत्वपूर्ण और सबसे ख़ास है। अच्छा ज़रा ये बताइए आज कितनी तारीख है? अब आप ये ज़रूर सोच रहे होंगे कि आज तारीख़ क्यूँ पूछी जा रही है। लेकिन आज की तारीख़ बहुत स्पेशल है। तो चलिये बता ही देते हैं कि आज तारीख़ 21 जून है जो कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के नाम से world famous है।

जी हां योग दिवस जो कि आज हम भारतीयों की गरिमा को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर गौरवान्वित कर रहा है। वैसे तो योग हम भारतीयों की प्रमुख पहचान है। जिसका साक्षात उदाहरण प्राचीन समय के ऋषि-मुनि एवं साधु-संत के बारे में जानकर सरलता से देखा जा सकता है। कुछ तथ्यों एवं निष्कर्षों द्वारा ऐसा माना जाता है कि योग की शुरुआत सभ्यता के प्रारंभ के समय से ही है। 

ऐसा भी माना जाता है कि योग के विज्ञान की उत्पत्ति कई हज़ारों साल पहले हुई थी। सामान्यतः योग को स्वास्थ्य एवं फ़िटनेस से संबंधित थेरेपी या exercise के रूप में में ही समझकर किया जाता है। परंतु योग का संसार तो बहुत ही विशाल एवं अद्भुत है। योग के माध्यम से आप स्वयं को एवं अन्य लोगों को भी शारीरिक, मानसिक एवं आध्यात्मिक शांति का अनुभव करा सकते हैं। साथ ही हम योग के चमत्कारिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं। योग का सहारा लेकर हेल्दी लाइफ़स्टाइल अपनाने में सहायता मिलती है। योग अपने आप में एक ऐसी अनूठी प्रक्रिया है। जिसका ज्ञान प्राप्त कर हम अपने मन, शरीर एवं आत्मा को प्रसन्न एवं तृप्त कर सकते हैं। 


योग का अर्थ क्या है ? ꘡ Yog kya hai in hindi



योग की उत्पत्ति मूलतः संस्कृत शब्द 'यूज़' से हुई है, जिसका मतलब है 'जुड़ना' अधिकतर लोगों यही लगता है कि शरीर को मोड़ने, खींचने, आड़ा-तिरछा करने, सांस अंदर-बाहर करने की क्रिया को ही योग कहते है।  लेकिन सच्चाई तो यह है कि योग को सही ढंग से सीखकर किया जाये तो इससे कई बीमारियों को आसानी से cure किया जा सकता है। जैसे- डायबिटीज (मधुमेह), हाई ब्लडप्रेशर, एसिडिटी, हाइपरटेंशन, आर्थराइटिस, थायरॉइड, फैटी लिवर, मोटापा, माइग्रेन और यहां तक कि कैंसर जैसी भयानक रोगों पर भी विजय प्राप्त की जा सकती है।

ऐसी अनेक बीमारियां हैं जिनको योगा की विभिन्न प्रक्रियाओं जैसे खानपान एवं दिनचर्या को अपनाकर अपनी life को स्वस्थ, मस्त एवं तंदुरुस्त बनाया जा सकता है।  इसके लिए विभिन्न योगा आसन एवं प्राणायाम जैसे- भ्रस्त्रिका, कपालभाति, अनुलोमविलोम, भ्रामरी, उज्जायनी आदि को अपनाकर एक स्वस्थ जीवनशैली एवं अच्छी आदतों का विकास कर सकते हैं।

विभिन्न योगासन जैसे- सूर्य नमस्कार, गौ मुखासन, योग मुद्रासन, बटरफ्लाई, सर्वांगसन, मंडूकासन, मर्कटासन, भुजंगासन, ताड़ासन, शीर्षासन, वज्रासन आदि आसन हमें जीवन में फिट रहने में भरपूर मदद करते हैं। फ़िट और हेल्दी लाइफ़ स्टाइल के लिए 'स्वस्थ जीने के कुछ अचूक गुरु मंत्र' पढ़िए।


योग करने के क्या फ़ायदे हैं | Benefits of yoga in hindi




आज के समय में योग की शिक्षा अनेक प्रतिष्ठित योग संस्थानों, योग विश्वविद्यालयों, योग कॉलेजों, प्राकृतिक चिकित्सा कॉलेजों तथा निजी संस्थानों एवं समितियों द्वारा प्रदान तथा संचालित की जा रही है। हमारे देश में चिकित्सालयों, विभिन्न औषधालयों, योग थेरेपी, योग प्रशिक्षण केंद्रों एवं अनेक योग अनुसंधान केन्द्रों की स्थापना की जा रही है। आइये जानते हैं योग के फ़ायदे क्या है?

(1) मोटापे पर नियंत्रण
आज के समय में  लगभग 70 से 80 फ़ीसदी लोग मोटापे के कारण परेशान होते हैं। इसीलिये ऐसे लोगों के लिए योग एक बेहतरीन opportunity है। योगा मांसपेशियों को पुष्ट करता है। और शरीर को तंदुरुस्त करता है। योग शरीर से मोटापा भी हटाता है।

(2) तन और मन का व्यायाम-
अगर आप जिम gym जाने के शौकीन हैं तो वह आपके शरीर को फिट रखेगा। लेकिन अगर आप योग का सहारा लेते हैं तो यह आपके तन के साथ-साथ मन और मस्तिष्क दोनों को तंदुरुस्त करेगा। यह शरीर मे लचीलापन, मांसपेशियों को मज़बूत करने और शारीरिक स्वास्थ्य को बढ़ाने में भी मदद करता है। 

(3) रोगों से छुटकारा-
नियमित योगाभ्यास से आप रोगों से छुटकारा पा सकते हैं। आप तो जानते ही हैं कि योग से रोगों से लड़ने की शक्ति बढ़ती है। योग से शरीर स्वास्थ और निरोग बनता है। यह श्वसन, ऊर्जा और जीवन शक्ति में सुधार लाता है। यह हमारी तंदुरुस्ती को बदलकर और चेतना विकसित कर तंदुरुस्ती प्रदान करने में मदद करता है।

(4) ब्लडसुगर लेवल पर कंट्रोल-
अगर आप नियमित योग करते हैं तो अपने ब्लड शुगर लेवल को भही आसानी से कंट्रोल कर सकते हैं। योग बढ़े हुए ब्लड शुगर के लेवल को घटाता है। डायबिटीज कर रोगियों के लिए भी योग बेहद फ़ायदेमंद है। योग कोलेस्ट्रॉल को भी नियंत्रित करता है।

(5) रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाना-
कोरोना काल में immunity power (रोग प्रतिरोधक क्षमता) की आवश्यकता को हम भलीभाँति जान चुके हैं। immunity यानी कि बीमारियों से लड़ने का पॉवर। जो कि नियमित योग करने से प्राप्त होता है। 

(6) वज़न में कमी-
अधिकतर लोग यही चाहते हैं कि उनके वज़न में किसी भी तरह कमी आ जाये। सूर्य नमस्कार और कपालभाति प्राणायाम, योग के साथ-साथ शरीर के वज़न में कमी भी लाते हैं। बस इतना जान लें कि नियमित रूप से योगाभ्यास ही हमें फिट रहने और वज़न कम करने में मदद करता है।

(7) चिंता से राहत-
योग से मांसपेशियों का अच्छा व्यायाम होता है। लेकिन विशिष्ट शोधों से पता चला है कि योग, शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से वरदान है। योग से तनाव व चिंता दूर होती है और अच्छी नींद आती है। योग तनाव व चिंता का प्रबंधन करते हुए आपको राहत पहुँचाता है। 

(8) पाचन में सहायक-
योगा व प्राणायाम से आपकी पाचन क्रिया तेज़ होती है। भूख अच्छी लगती है। जिस कारण भोजन भी शरीर के लिए फायदेमंद साबित होता है।

(9) अस्थमा में योग के लाभ-
आज के समय में मिट्टी या अन्य कई कारण ऐसे होते हैं जिस कारण अस्थमा के मरीजों की संख्या बढ़ रही है। यह बीमारी बुज़ुर्गों से लेकर बच्चों तक देखी जा रही है। अस्थमा में आमतौर पर श्वास नली सिकुड़ जाती है जिस कारण मरीज़ को साँस लेने में तकलीफ़ होती है। यदि ऐसी परिस्थितियों में मरीज़ योग करता है तो उसके फेफड़ों में ज़ोर मिलता है। जिस कारण मरीज़ अधिक क्षमता के साथ अपने काम करता है।

(10) ग्लोइंग त्वचा के लिए-
नियमित योग से आपकी त्वचा ग्लो करने लगती है। स्किन पर पड़ने वाली झुर्रियों से आप दूर रहते हैं। परिणामस्वरूप आपकी त्वचा ख़ूबसूरत होने की वजह से आप भी खूबसूरत होते हैं। यानि कि लंबे समय तक आपके चेहरे पर ग्लो नज़र आता है।

(11) याददाश्त और एकग्रता में बढ़ोत्तरी-
एक बात तो आप गाँठ बांध लें कि अगर आप नियमित योग करते हैं तो निश्चित रूप से आपकी याददाश्त और एकाग्रता में अभूतपूर्व सुधार देखने मिलता है। किसी कार्य को करने के लिए आप पूरी तरह फ़ोकस कर पाते हैं।

उम्मीद है आपने हमारे अंक "जीवन में योग के फ़ायदे" के माध्यम से योग के क्या लाभ होते हैं? ज़रूर जान चुके होंगे। हम आशा करते हैं कि आप भी योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करने का प्रयास करेंगे।
- By Poonam


Read more articles 👇

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ