महिलाएं अपना सकती हैं ये 7 टिप्स, वर्कआउट के दौरान स्टेमिना बढ़ाने के लिए | How-women-increase-their-stamina-during-workout-in-hindi

स्वस्थ और फ़िट रहना आजकल हर किसी को ज़्यादा पसंद आने लगा है। कोरोना के बाद से लोगों ने अपनी फ़िटनेस पर ज़्यादा ध्यान देना शुरू कर दिया है। आजकल हर कोई एक्सरसाइज़ के लिए जिम (gym) पहुँच रहा है। खुशी की बात तो यह है कि आजकल इस मामले में सिर्फ पुरुष ही नहीं बल्कि महिलाएँ भी उतनी ही दिलचस्पी दिखा रही हैं।


जिम में आजकल महिलाएँ भी बराबर भाग लेती दिखाई देने लगी हैं। या यूँ कहिए कि महिलाएँ भी वर्कआउट के लिए पसीना बहाती नज़र आने लगी हैं। यदि परिवार में महिलाएं gym की तरफ आकृष्ट होंगी तो समझ लीजिए पूरे परिवार की सेहत के प्रति जागरूकता का एक अच्छा संकेत है।


महिलाओं को वर्कआउट करना इसीलिये भी ज़्यादा ज़रूरी है क्योंकि उनपर परिवार की ज़िम्मेदारी ही इतनी ज्यादा होती है कि इस बीच ख़ुद पर ध्यान देना उतना ज़रूरी नहीं समझतीं। जबकि हमारा तो मानना है कि घर में महिलाएं स्वास्थ्य के प्रति जितनी जागरूक होंगी। परिवार में बाकी लोगों की देखभाल भी उतनी ही बेहतर ढंग से होगी।

लेकिन महिलाओं के लिए इतनी मेहनत के बीच अगर कोई बात परेशान करती है तो वह है उनके शरीर मे स्टेमिना (stamina) की कमी। जिस वजह से इनको जिम में बड़ी जल्दी ही थकावट महसूस होने लगती है।


वर्कआउट के लिए स्टेमिना कैसे बढ़ाएं ये जानने से पहले हम जान लेते हैं कि ये स्टेमिना क्या होती है? (what is stamina in hindi) तो आइए जानते हैं स्टेमिना के बारे में-

स्टेमिना किसे कहते हैं ?
जब आप किसी भी मेहनत के काम को एक लंबे समय तक बग़ैर थके कर सकें। तब ऐसी क्षमता ही स्टेमिना stamina कहलाती है। अगर सीधे और सरल शब्दों में समझें तो यह कह सकते हैं कि "किसी भी तनाव, बीमारी अथवा शारीरिक दर्द को सहने की आंतरिक शक्ति को ही stamina स्टेमिना कहते हैं।"

दिन भर के घरेलू और पूरे परिवार के लिए कामकाज करते-करते महिलाएं इतनी थक जाती हैं कि उन्हें फ़िर सुबह अपने लिए किसी भी वर्कआउट के लिए मनोबल की कमी महसूस होने लगती है। किसी दिन मन करता है कि ख़ूब वर्कआउट करें तो किसी दिन इतनी ताक़त ही नहीं बचती कि महिलाएं अपना वर्कआउट पूरा कर सकें।

वर्कआउट के दौरान स्टेमिना बढ़ाने के लिए महिलाएं क्या करे? ख़ास इसी समस्या के निदान के लिए हम लेकर आये हैं ऐसे कुछ उपाय जिन्हें अपनाकर आप अपने वर्कआउट के लिए स्टेमिना में बढ़ोत्तरी कर सकती हैं। तो चलिए वक़्त ज़ाया न करते हुए जानने का प्रयास करते हैं वो ख़ास तरीके जिन्हें अपनाकर आप वर्कआउट के दौरान अपनी स्टेमिना बढ़ा सकती हैं-


वर्कआउट के दौरान महिलाएं स्टेमिना कैसे बढ़ाएँ? (How women increase their stamina during workout in hindi)

आइये जानते हैं कि महिलाओं को वर्कआउट के समय स्टेमिना बढ़ाने के लिए क्या करना चाहिए ताकि वे वर्कआउट के बाद भी पूरा दिन फ्रेश महसूस कर सकें - 


(1) नियमित व्यायाम करें बीच में बिल्कुल न छोड़ें- 


अक़्सर ऐसा देखने में आता है कि घरेलू कामकाज की वजह से महिलाओं का नियमित रूप से व्यायाम करना ज़रा मुश्किल होता है। कहीं आपकी दिनचर्या भी तो इस तरह की नहीं। अगर आपके साथ भी ऐसा हो रहा है तो आप ऐसा बिल्कुल न करें। बल्कि अपने रोज़ाना के कामकाजों में सामंजस्य स्थापित करते हुए व्यायाम के लिए समय चुराने का प्रयास करें।

क्योंकि कुछ दिनों तक व्यायाम करने के बाद बीच में छोड़ देने के बाद दोबारा शुरू करने में काफ़ी कठिनाई होती है। आपकी मानसिकता और स्टेमिना भी इससे तौबा कर लेती है। फ़िर पहले जैसी स्टेमिना पाना कठिन हो जाता है। दरअसल नियमित व्यायाम करते रहने से आपका शरीर भी उस रूटीन में ढल जाता है और स्टेमिना भी बढ़ जाती है। इसके अलावा अलावा आप चाहें तो सुबह उठकर टहलने भी जा सकती हैं क्योंकि सुबह उठकर टहलने के फ़ायदे आपको इतने मिलते हैं कि आपकी स्टेमिना में भी अच्छा ख़ासा इज़ाफ़ा हो सकता है।


(2) व्यायाम से पहले स्ट्रेचिंग करने का प्रयास करें-


यह तो आप जानती ही हैं कि वर्कआउट करने से पहले Body को लय में लाने के लिए हल्का-फुल्का खिंचाव देना ज़रूरी होता है। ऐसा करने के लिए निश्चित तौर पर आपके लिए स्ट्रेचिंग stretching करना बेहतर होगा। आप वर्कआउट शुरू करने से पहले stretching कर सकती हैं। इससे आपके शरीर में बेहतर खिंचाव महसूस होगा और वर्कआउट करने के लिए पर्याप्त स्टेमिना भी मिल सकेगी। 

इससे आपके शरीर की मांसपेशियां मज़बूत होती हैं। जो कि आपकी स्टेमिना में बढ़ोतरी करने में सहायक होती है। वर्कआउट करने से पहले stretching कर लेने से आपके शरीर में चोट (injury) यानि कि किसी प्रकार की क्षति (damage) पहुँचने का ख़तरा कम हो जाता है। साथ ही इसके अन्य दूसरे भी बेहतरीन फ़ायदे मिलते हैं। हेल्दी लाइफ़स्टाइल के लिए अचूक गुरु मंत्र  सीखने के लिए यहाँ क्लिक करें। 


(3) भरपूर मात्रा में पानी या कोई लिक्विड लें-


वर्कआउट के दौरान शरीर को हाइड्रेट रखना भी बहुत आवश्यक होता है। ताकि शरीर के सभी अंगों को पर्याप्त पानी मिल सके। दरअसल वर्कआउट के दौरान शरीर से बहुत ज़्यादा पसीना बहता है जिसके चलते शरीर का थक जाना लाज़मी है। इसके लिए हम आपको यही सलाह देना चाहते हैं कि आप शरीर में नमी यानि कि पानी की मात्रा को बैलेंस करने के लिए पानी या अन्य लिक्विड का सेवन कर सकती है। आप सुबह-सुबह नीबू पानी भी ले सकती हैं क्योंकि नीबू पानी पीने के फ़ायदे भी अद्भुत होते हैं। 

वैसे आपने महसूस किया होगा कि अगर शरीर में पानी की कमी हो जाए तो आपका एनर्जी energy लेवल कम हो जाता है। यानी कि स्टेमिना कम हो जाती है। इसीलिये पर्याप्त मात्रा में लिक्विड लेते रहने से आपकी स्टेमिना अच्छी होगी जिस कारण आप भरपूर एनर्जी से वर्कआउट कर सकेंगी।


(4) सुबह-सुबह कुछ अच्छी डाइट लें-


अपनी दिनचर्या में हेल्दी फेट को ज़रूर शामिल करें। आप सुबह-सुबह की अपनी डाइट में काजू, बादाम, मूंगफली, अंकुरित चने आदि शामिल कर सकती हैं। इस तरह की डाइट लेने से आपके शरीर में लंबे समय तक एनर्जी energy बनी रहती है। आप तो जानते हैं कि जितने लंबे समय तक आपके शरीर में energy बनी रहेगी आपको अपने वर्कऑउट के दौरान थकावट ज़रा कम ही महसूस होगी। आप वर्कआउट के बाद भी पूरे दिन तरोताज़ा महसूस करेंगी।


(5) सकारात्मक सोच हमेशा बनाये रखें-


अक्सर महिलायें रोज़मर्रा के कामकाजों के चलते ख़ुद पर उतना ध्यान नहीं दे पातीं। वर्कआउट शुरु कर तो देती हैं लेकिन जल्द ही ऊब जाती हैं। किसी भी नई आदत को शुरू करने के बाद जारी रखने में थोड़ी कठिनाईयां तो आती ही हैं। बस आप एक सकारात्मक सोच के साथ अपने इस वर्कआउट को अपनी रोज़मर्रा की आदत बनाएँ। आप चाहें तो कभी कभी मेडिटेशन भी कर सकती हैं।


(6) प्राणायाम व योग करने का प्रयास करें-


वर्कआउट शुरू करने के पहले आप प्राणायाम व योग के कुछ आसान आसन कर सकती हैं। प्राणायाम में अनुलोम -विलोम और कपालभाती कर सकती हैं साथ ही योग के अंतर्गत सूर्य नमस्कार आदि कर लेने से आपकी बॉडी में बेहतर खिंचाव आ जायेगा। ये सब कर लेने से आपकी बॉडी वर्कआउट के लिए पूरी तरह तैयार हो जाएगी। इस तरह आप अगर रोज़ाना ही प्राणायाम व कुछ साधारण योग के आसनों को फॉलो करेंगी तो निश्चित तौर पर अपना वर्कआउट बेहतर स्टेमिना के साथ कर पाएंगी।

वैसे भी प्राणायाम व योग करने से तेज़ी से वज़न कम होता है। इससे वज़न भी तेज़ी से घटता है और आपकी मसल्स भी तेज़ी से मज़बूत होती हैं। साथ ही रोगप्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। लेकिन इस तरह के आसनों या व्यायाम को किसी ट्रेनर अथवा किसी एक्सपर्ट से पूछकर ही करें तो आपके लिए बेहतर साबित होगा।


(7) वर्कआउट के बाद रिलेक्स करें-


यदि आप वर्कआउट के दौरान बहुत अधिक पसीना बहाती हैं तो आपको थकावट बहुत ज़्यादा महसूस होती होगी। हम आपको बता दें कि यह थकावट आपके शरीर को बुरी तरह प्रभावित करती है। Workout के बाद होने वाली थकावट से निजात पाने के लिए रिलेक्स Relax होना अत्यंत ही आवश्यक हो जाता है। ताकि आपका शरीर पूरी तरह cool down (कूल डाउन) हो सके।

कूल डाउन (रिलेक्स) हो जाने से आपके पूरे शरीर को आराम मिल जाता है। शरीर को पूरी तरह रिलैक्स करने के लिए आप शवासन की प्रक्रिया अपना सकती हैं। शवासन में आराम से नीचे सीधे लेटकर शरीर को पूरी तरह ढीला छोड़कर कुछ देर तक ऐसे ही लेटना पड़ता है। जिससे कि आपका शरीर रिफ्रेश हो जाता है। शवासन से आपका पूरा शरीर कुछ ही देर में तरोताज़ा महसूस करने लगता है और आप अन्य कामकाजों को भरपूर energy के साथ कर सकती हैं।

उम्मीद है हमारा यह आर्टिकल "महिलाएं अपना सकती हैं ये ख़ास 7 टिप्स, वर्कआउट के दौरान स्टेमिना बढ़ाने के लिए" आपके वर्कऑउट के लिए ज़रूर helpful साबित होगा। आप ज़रूर इन उपायों को अपनाकर बेहतर Immunity Power और स्टेमिना के साथ अपने वर्कआउट को रेगुलर रख पाएंगी।

अन्य आर्टिकल्स भी पढ़ें👇

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ